Wednesday, April 4, 2012

Munawwar Rana - Naa jane kyon mere cehre se ghabraahat nahin jaati


 

Munawwar Rana


मियां मैं शेर हूँ 
शेरो की गुर्राहट नहीं जाती 
मैं लहज़ा नरम भी कर लू 
तो झिन्झालाहत नहीं जाती 

मैं एक दिन बेखयाली में 
सच बोल बैठा था 
मैं कोशिश कर चुका हूँ 
मुंह की कड़वाहट नहीं जाती 

जहाँ मैं हूँ वहाँ 
आवाज़ देना जुर्म ठहरा है
जहाँ वो हैं वहाँ तक
पांव की आहट नहीं जाती 

मोहब्बत का ये ज़ज्बा 
जब खुदा की देन है भाई 
तो मेरे रास्ते से क्यूँ 
ये दुनियाहत नहीं जाती 

वो मुझ से बे तकल्लुफ 
हो के मिलता है मगर राणा 
ना जाने क्यों मेरे चेहरे से 
घबराहट नहीं जाती 

Miyaan mein sher hoon 
sheron ki gurrahat nahin jaati
Mein lehjaa narm bhi kar loon 
to jhinjhlahat nahin jaati

Mein ek din be khyali mein 
sach bol behtaa tha
Mein koshish kar chukaa hoon 
munh ki karwahat nahin jaati

Jahan mein hoon wahan 
aawaz denaa jurm tehraa hai
Jahan who hain wahan tak 
paon ki aahat nahin jaati

Mohabbat ka yeh jazba jab 
khudaa ki den hai bhai
Tu mere raaste se kyuon 
yeh duniyaahat nahin jaati

Who mujh se be takkaluf 
ho ke miltaa hai magar raana
Naa jane kyon mere cehre se 
ghabraahat nahin jaati

-- Munawwar Rana


Categories: , , , ,

0 comments:

Post a Comment

Add your comment

 
  • Followers