Tuesday, March 20, 2012

Ahmed Faraz - Badan mein aag sii cheharaa gulaab jaisaaa hai



बदन में आग सी चेहरा गुलाब जैसा है 
के ज़हर-ए-गम का नशा भी शराब जैसा है 

कहाँ वो कुर्ब के अब तो ये हाल है जैसे 
तेरे फ़िराक का आलम भी ख्वाब जैसा है 

मगर कभी कोई देखे कोई पढ़े तो सही 
दिल आइना है तो चेहरा किताब जैसा है 

वो सामने है मगर तिशनगी नहीं जाती 
ये क्या सितम है के दरिया शराब जैसा है 

फ़राज़ संग-ए-मलामत से ज़ख्म ज़ख्म सही 
हमें अज़ीज़ है खाना खराब जैसा 

Badan mein aag si chehra gulaab jaisa hai 
ke zahar-e-gam ka nashaa bhi sharaab jaisa hai 

Kahaan vo qurb ke ab to ye haal hai jaise 
tere firaaq ka aalam bhi khvaab jaisa hai 

Magar kabhi koi dekhe koi padhe to sahi 
dil aaiina hai to chehara kitaab jaisa hai 

Vo saamane hai magar tishnagi nahin jaati 
ye kya sitam hai ke dariya sharaab jaisa hai 

'Faraz' sang-e-malaamat se zakhm zakhm sahi 
hamein aziiz hai khaana kharaab jaisa hai 

-- Ahmed Faraz

[tishnagii=thirst, saraab=illusion/mirage ]

Categories:

 
  • Followers