Wednesday, January 25, 2012

Rahat Indori - Agar khilaaf hain hone do




अगर ख़िलाफ़ हैं होने दो जान थोड़ी है
ये सब धुआँ है कोई आसमान थोड़ी है

लगेगी आग तो आएँगे घर कई ज़द में
यहाँ पे सिर्फ़ हमारा मकान थोड़ी है

मैं जानता हूँ के दुश्मन भी कम नहीं लेकिन
हमारी तरहा हथेली पे जान थोड़ी है

हमारे मुँह से जो निकले वही सदाक़त है
हमारे मुँह में तुम्हारी ज़ुबान थोड़ी है

जो आज साहिबे मसनद हैं कल नहीं होंगे
किराएदार हैं ज़ाती मकान थोड़ी है

सभी का ख़ून है शामिल यहाँ की मिट्टी में
किसी के बाप का हिन्दोस्तान थोड़ी है
 
Agar khilaaf hain hone do jaan thodi hai
ye sab dhuaan hai koi aasmaan thodi hai
 
Lagegi aag to aayenge ghar kai zad mein
yahan pe sirf hamara makan thodi hai
 
Main janta hun ki dushman bhi kam nahi lekin
hamari tarah hatheli par jaan thodi hai
 
Hamare muhn sejo nikale vahi sadakat hai
hamare muhn mein tumhari zubaan thodi hai
 
Jo aaj sahib-e-masnad hai kal nahin honge
kirayedaar hain jati makan thodi hai
 
Sabhi ka khoon hai shamil yahan ki mitti main
kisi ke baap ka hindustaan thodi hai

-- Rahat Indori

Categories: ,

 
  • Followers