Monday, January 30, 2012

Munawwar Rana - Ajab duniya hai na shayar yaha par sar uthate hai



अजब  दुनिया है ना शायर यहाँ पर सर उठाते हैं
जो शायर हैं वो महफ़िल में दरी चादर उठाते हैं

तुम्हारे  शहर में मय्यत को सब कान्धा नहीं देते 
 हमारे गांव में छप्पर भी सब मिल कर उठाते हैं

इन्हें फिरकापरस्ती मत सिखा देना की ये बच्चे
जमीं से चुन कर तितली के टूटे पर उठाते हैं

समंदर के सफर में वापसी का क्या भरोसा है
तो आये साहिल खुदा हाफिज़ की हम लंगर उठाते हैं

ग़ज़ल हम तेरे आशिक हैं मगर एक पेट के खातिर
कलम किस पर उठाना था कलम किस पर उठाते हैं

बुरे चेहरे के जानिब देखने की हद भी होती है
संभालना आइना कानो की हम पत्थर उठाते हैं



Ajab duniya hai na shayar yaha par sar uthate hai
Jo shayar hain wo mehfil mein dari chadar uthate hai

Tumhare shaher mein mayyat ko sab kandha nahi dete

Humare gaon mein chappar bhi sab milkar uthate hai

Inhe firakpasti mat shika dena ki ye bachhe
Jami se chun kar titli ke toote par uthate hai

Samundar ke safar me wapsi ka kya bharosha hai
To aye saahil khuda hafiz ki hum langar uthate hai

Ghazal hum tere aahiq hai magar ek pet ke khatir
Kalam kis par uthana tha kalam kis par uthate hai

Bure chehre ke janib dhekne ki had bhi hoti hai
Sambhalna aaina kano ki hum pathhar uthate hai
 
-- Munawwar Rana

Categories: ,

 
  • Followers