Friday, December 23, 2011

Kumar Vishwas - Naa Paane Ki Khushi Hai Na Khone Ka Gham



ना पाने की खुशी है कुछ,
ना खोने का ही कुछ गम है
ये दौलत और शौहरत सिर्फ
कुछ जख्मों का मरहम है

अजब सी कशमकश है
रोज जीने ,रोज मरने में
मुक्कमल जिंदगी तो है,
मगर पूरी से कुछ कम है

Naa paane ki khushi hai kuch,
na khone ka hi kuch gham hai
ye daulat aur shauhart sirf
kuch jakhmon ka marham hai.

ajab se kashmakash hai
roj jeene roj marne me
mukammal jindagi to hai
magar poori se kuch kam hai
 
-- Dr Kumar Vishwas

Categories:

 
  • Followers